Rebirth Story In Hindi – पुनर्जन्म की सच्ची कहानी

Rebirth Story In Hindi – पुनर्जन्म की सच्ची कहानी

इस लेख में आपको एक पुनर्जन्म की सच्ची घटना पर आधारित सच्ची कहानी को बताया गया है , यदि आप पुनर्जन्म में यकीं रखते है , तो आप इस कहानी को जरूर पढ़ सकते है , और यदि यकीं न भी रखते हो , तो यह कहानी आप पढ़ सकते है।

पुनर्जन्म की सच्ची घटनाएं इन हिंदी

Rebirth Story In Hindi जुलाई सन् 1970 की बात है । श्री . व्रजविहारी लाल जी , गाजियाबाद में एक आयकर अधिकारी थे । एक दिन उनके एक पुत्र ने अपने पूर्वजन्म की बातें बताकर घर में सबको आश्चर्यचकित कर दिया ।

वह अपने को पूर्वजन्म में लखनऊ का एक मुसलमान बताता था । उसकी कहानी को उसके पिताजी ने कुछ ऐसे सुनाया – हम जाति के अग्रवाल वैश्य हैं , मेरठ के रहने वाले हैं ।

मेरठ के सुप्रसिद्ध वकील स्वर्गीय बाबू बैजनाथ जी हमारे बाबा थे । हमारे घर जब इस बालक का जन्म हुआ तो उसका शुभ नाम सुभाष रखा गया । जब हम आयकर अधिकारी होकर बरेली गए , तब परिवार के साथ यह लड़का भी था । एक बार इसके बड़े भाई की वर्षगाँठ थी , उस दिन उसका जन्मदिवस मनाया जा रहा था ।

जन्मदिवस के उपलक्ष्य में घर में खाना – पीना हुआ और उसकी खुशी में इसके बड़े भाई को बाजार से एक कैरमबोर्ड खरीदकर मँगवा दिया गया ।

Read more  Knowledge Story In Hindi - ज्ञानवर्धक कहानी

सुभाष का बड़ा भाई और सुभाष दोनों कैरमबोर्ड खेल रहे थे । खेलते – खेलते अचानक किसी बात को लेकर दोनों का आपस में कुछ झगड़ा हो गया ।

दैवयोग से ठीक उसी समय सुभाष की अपने पूर्वजन्म की स्मृति जाग्रत हो गई और उसने क्रोध में कैरमबोर्ड को एक तरफ फेंकते हुए अपने बड़े भाई से कहा- ” यह ले तू अपने कैरमबोर्ड को , मैं कोई गरीब थोड़े ही हूँ , मैं तो लखनऊ का बहुत बड़ा रईस आदमी था । आज भी लखनऊ के मेरे मकान में नब्बे हजार रुपये गड़े हुए हैं ।

मैं एक नहीं , अपने उन रुपयों से हजारों कैरमबोर्ड मँगवा लूँगा । ” बस , उसी दिन से उसने अपने पूर्वजन्म की बातें बताना आरंभ कर दिया ।

बालक सुभाष से जब हमने पूछा- ” तुम पूर्वजन्म में कौन थे ? ” तो उसने बताया- ” मैं पूर्वजन्म में एक मुसलमान था । मेरा नाम था – मुहम्मद खान । मैं बड़ा रईस आदमी था और लखनऊ में रहा करता था । ” फिर हमने अपने पुत्र से ढेर सारे प्रश्न किए और उसने उनके सटीक जवाब भी दिए । हमने उससे पूछा- ” लखनऊ में तुम कहाँ रहते थे ? ” वह बोला- ” मैं केसरबाग में रहता था । ” यह पूछने पर कि तुम वहाँ क्या करते थे ? तुम्हारे परिवार में कौन थे ? तो वह बोला – ‘ मेरे ससुर बड़े ही मालदार थे ।

Read more  Knowledgeable Story In Hindi - ज्ञानवर्धक कहानियाँ

उनके कोई लड़का नहीं था । बस , सिर्फ लड़कियाँ ही थीं । इसलिए मेरे ससुर ने मुझे अपने पास ही रख लिया था । अपनी सारी जायदाद का मुझे मालिक बना दिया था ।

मेरी बीबी का नाम शफिया खान था । मेरे चार लड़के और दो लड़कियाँ थीं । दो लड़के उस्मानिया यूनिवर्सिटी , हैदराबाद में पढ़ा करते थे ।

मेरी एक लड़की लखनऊ में ब्याही थी और दूसरी इलाहाबाद में । उस समय पाँचों वक्त की नमाज पढ़ा करता था और रोजे भी रखता था ।

मेरे पास एक कार भी थी । ” ” तुम्हारी कार का क्या नंबर था कुछ याद है ? ” यह पूछने पर वह बोला- ” हाँ । यू.एस.जे. 32891 ” ” तुम्हारी लखनऊ में कुछ और भी चीजें रखी हुई थीं क्या ? ” ” हाँ ! मुसलमान सुरमा लगाने के बड़े शौकीन होते हैं , मेरे पास भी उस समय सोने की चार सुरमेदानियाँ थीं , जो मेरी अलमारियों में थीं । ” ” तुम्हारी पूर्वजन्म में मृत्यु कैसे हुई , क्या तुम्हें याद है ? ” ” हाँ ! मुझे याद है ।

Read more  Rebirth Story In Hindi - पुनर्जन्म की एक सच्ची घटना

मैं पूर्वजन्म में एक दिन लखनऊ के अपने तिमंजिले मकान की छत पर खड़ा था कि अचानक उस समय एक बंदर ने आकर मेरे ऊपर हमला कर दिया । मैं उस बंदर से घबराकर भागने लगा कि तभी मैं तिमंजिले मकान से एकदम नीचे आकर गिरा और उसी समय तत्काल मेरी मृत्यु हो गई । फिर मैंने यहाँ पर जन्म ले लिया ।

” जब इस घटनाक्रम की जाँच कराई गई तो ये सारी बातें अक्षरशः सत्य निकलीं । यहाँ तक कि उसके द्वारा बताए गए स्थान पर 90,000 रुपये भी गड़े निकले ।

ये घटनाक्रम सिद्ध करते हैं कि आत्मा , शरीर बदलकर फिर नए जन्मों की यात्रा पर निकल जाती है । कार्य शुभ हों तो परिणाम भी शुभ होते हैं और अगला जन्म अच्छा बनता है । इसलिए सदा शुभ कर्म करने चाहिए ।

प्रिय पाठको हम ये पूरी तरह से दावा नही करते है , कि यह कहानी कितनी प्रतिशत सत है , कृपया आप इसे मनोरंजन के लिए पढ़े। यही हम आशा करते है। धन्यवाद

आपका दिन शुभ हो

[jetpack_subscription_form show_subscribers_total=”false” button_on_newline=”false” custom_background_button_color=”linear-gradient(135deg,rgb(254,205,165) 0%,rgb(254,45,45) 0%,rgb(107,0,62) 100%)” custom_font_size=”16px” custom_border_radius=”0″ custom_border_weight=”1″ custom_padding=”15″ custom_spacing=”10″ submit_button_classes=”” email_field_classes=”” show_only_email_and_button=”true”]

Leave a Comment