Board Exam Ki Taiyari Kaise Kare – बोर्ड एग्जाम की तैयारी कैसे करे ?

Board Exam Ki Taiyari Kaise Kare – बोर्ड एग्जाम की तैयारी कैसे करे ?

Board Exam Ki Taiyari Kaise Kare परीक्षा के समय तनाव का होना एक ऐसा सच है , जिससे अधिकांश परीक्षार्थी दो – चार होते हैं । कई बार तो यह तनाव इस कदर हावी हो जाता है कि व्यक्ति गहरे अवसाद में चला जाता है । कई लोग तो परीक्षाओं के आते – आते हाथ खड़ा कर देते हैं व इसके दबाव में परीक्षा ही छोड़ देते हैं । कुछ इस तनाव के कारण परीक्षा में अपना श्रेष्ठतम प्रदर्शन भी नहीं कर पाते । परीक्षा का सामना पूरी तैयारी के साथ कैसे करें , जिससे कि श्रेष्ठतम प्रदर्शन संभव हो प्रस्तुत हैं ऐसे कुछ सूत्र ।

नियमित पढाई की कार्ययोजना बनाये

नियमित पढ़ाई की ठोस कार्ययोजना बनाएँ , क्योंकि परीक्षा के लिए पूर्व से सुनियोजित तैयारी ही सर्वश्रेष्ठ रणनीति रहती है ।

नियमित रूप में पढ़ाई का व्यवहारिक लक्ष्य निर्धारित हो , जिसमें कि उपलब्ध समय , इसके अंतर्गत पूरे किए जाने वाले अध्ययन कार्य का स्पष्ट लेखा – जोखा हो । फिर बड़े लक्ष्य को छोटे – छोटे टुकड़ों में बाँटकर पूरा करने की अनुशासित कार्य योजना पर अमल भी किया जाए । ऐसे में नियमित आधार पर अपनी प्रगति का आंकलन हमें , हमारी तैयारी के प्रति आश्वस्त रखता है और सहर्ष परीक्षा का सामना करने की स्थिति बनती है ।

नोट्स बनाते रहे

नोट्स समय पर बनाते रहें , क्योंकि परीक्षा के पूर्व नोट्स का न होना तनाव का एक बड़ा कारण बनता है ।

अचानक एक साथ कई विषयों की तैयारी सामने आने पर हाथ – पैर फूल जाते हैं । इसलिए पढ़ाई के साथ नियमित रूप में नोट्स भी बनते रहें , जिससे कि परीक्षा आने पर पढ़ाई एवं पुनरावृत्ति ( रिवीजन ) का काम सरल हो सके । इसके लिए कक्षा के साथ पुस्तकालय में कुछ समय बिताने का क्रम अभीष्ट रहता है ।

Read more  Self Confidence Kaise badhaye - आत्मविश्वास बढ़ाने के उपाय

नोट्स का नियमित रिवीजन करे

नोट्स के साथ नियमित पुनरावृत्ति ( रिवीजन ) महत्त्वपूर्ण है , जिससे विषय याद रहता है अन्यथा विषय विस्मृति के गर्त में चला जाता है । शोध के आधार पर पाया गया है कि हम 24 घंटे में 67 फीसदी विषय भूल जाते हैं । अतः नियमित रिवीजन करने पर विषय कंठस्थ रहता है और परीक्षा के समय कार्य सरल हो जाता है ।

यदि हम एक ही विषय पढ़ते – पढ़ते थक जाते हैं तो विषयों की अदला – बदली की जा सकती है , क्योंकि विषयों को बदलने से रुचि बनी रहती है और कम समय में अधिक पढ़ाई संभव होती है । शुरुआत हम सरल विषयों से कर सकते हैं व धीरे – धीरे कठिन विषयों को हाथ में ले सकते हैं ।

यदि मनःस्थिति अनुकूल हो तो कठिन विषयों से भी शुरुआत कर सकते हैं । हमारी मनःस्थिति अधिकांश समय पढ़ाई के अनुकूल बनी रहे , यह भी जरूरी होता है ।

शांत व एकांत होकर पढाई करे

पढ़ाई के लिए अनुकूल परिवेश बहुत उपयोगी रहता है । कहने की आवश्यकता नहीं कि पढ़ाई के लिए घर का शांत व एकांत कोना या कमरा उपयुक्त रहते हैं । पढ़ाई की मेज सुव्यवस्थित हो , जिससे कि आवश्यक पुस्तकें , कॉपी या पढ़ने – लिखने की सामग्री आवश्यकता पड़ने पर आसानी से उपलब्ध हो सके – ये जरूरी है । टेबल का अस्त – व्यस्त होना , समय पर आवश्यक सामग्री का उपलब्ध न हो पाना तनाव का कारण बनता है ।

Read more  Sundar Pichai Biography In Hindi - सुन्दर पिचाई का जीवन परिचय

स्वास्थ्य पर भी ध्यान दे

उचित आहार , विश्राम एवं निद्रा का अपना महत्त्व है । पढ़ाई के लिए उचित आहार लेना आवश्यक है । पेट जितना हल्का रहे , ठीक रहता है । जंक फूड लेने से बचें , जो पेट और सर दोनों को भारी कर देता है । कठिन श्रम के साथ विश्राम एवं निद्रा का भी उचित अनुपात रखें , जो मन की ग्रहणशीलता को उच्च स्तर पर बनाए रखने में सहायक होगा । बीच – बीच में टहलने का तरीका भी अपना सकते हैं , जिससे कि तन व मन एक नई ऊर्जा के साथ कार्य करने के लिए तैयार हो जाते हैं ।

बेवजह समय व्यर्थ न करे

परीक्षा के दौरान बाहरी व्यवधानों से यथासम्भव दूर रहें । स्मार्ट फोन इसमें एक प्रमुख बाधा बनता है । अतः परीक्षा की तैयारी के दौरान सोशल मीडिया से यथासम्भव दूर ही रहें । साथ ही यार – दोस्तों की समय बर्बाद करने वाली संगत से बचें , अनावश्यक गप्पबाजी से भी दूर रहें । गलत संगत से अकेला भला , की उक्ति यहाँ उचित रहती है । इस दौरान अत्यधिक बहिर्मुखी कार्यों से भी बचें ।

अनुकूल वातावरण का आनंद ले

प्रकृति का सान्निध्य परीक्षा के तनाव को दूर करने में बहुत सहायक सिद्ध होता है । घर के आंगन , छत या बालकनी के गमलों में हरियाली को पास रखना एक प्रशांतक प्रयोग सिद्ध होता है । शहरों में पार्क तथा गाँव में खेत – खलिहान , बाग या नदी – झील के किनारे , पढ़ाई को अच्छे से करने के लिए अनुकूल स्थान सिद्ध होते हैं ,

जहाँ मन प्रकृति के बीच सहज रूप से शांत एवं एकाग्र हो जाता है । यदि इतनी तैयारी के साथ आप परीक्षा का सामना करते हैं , तो कोई कारण नहीं कि परीक्षा के पूर्व आप तनावग्रस्त होंगे , बल्कि परीक्षा आपके लिए एक रोचक अनुभव सिद्ध होगी ।

Read more  Interesting Unknown Facts - Amazing Facts

मनपसंदीदा कार्य करे

तैयारी के दौरान भी परीक्षा को हौवा न बनने दें बल्कि बीच – बीच में अपने मनपसंदीदा कार्य , जैसे – खेल – कूद , मनोरंजन , भ्रमण आदि को भी स्थान दें । ऐसे छोटे – छोटे प्रयोग मन को प्रशांत एवं ओजस्वी बनाने वाले साबित होंगे ।

यहाँ अभिभावकों का भी यह कर्तव्य बनता है कि वे अपने बच्चों पर सर्वाधिक नम्बरों या परिणाम के लिए अनावश्यक दवाव न डालें । अपनी अधूरी महत्त्वाकांक्षाओं का बोझ बच्चों के कोमल कंधों पर न थोपें , बल्कि एक सच्चे शुभचिंतक की भाँति उनके श्रेष्ठतम प्रदर्शन में सहायक बनें ।

अंतिम शब्द

इस लेख में आपको बोर्ड एग्जाम की तैयारी कैसे करे ? इसके बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारिया मिली हमें यकीन है की आप सभी पाठको को यह काफी पसंद होगा

इसी तरह की जानकारी पाने के लिए आप हमसे Facebook के माध्यम से जुड़ सकते है

इन्हे भी पढ़े

Leave a Comment